Menu - Pages

Wednesday, December 29, 2010

Musafir Hoon Yaaron..

The last few years have seen me shifting from hometown to Jaipur to Ahmedabad to Lonavla to Pune..not to mention the places I've lived at abroad as a child. I've learnt not to leave any roots behind.. for if I do..the transition from one place to another would become very very difficult. Somehow I can relate to this song by Gulzar Sahab :
मुसाफ़िर हूँ मैं यारों
ना घर है ना ठिकाना
मुझे चलते जाना है, बस, चलते जाना

एक राह रुक गई, तो और जुड़ गई
मैं मुड़ा तो साथ-साथ, राह मुड़ गई
हवा के परों पे, मेरा आशियाना

दिन ने हाथ थाम के, इधर बिठा लिया
रात ने इशारे से, उधर बुला लिया
सुबह से शाम से मेरा, दोस्ताना