Menu - Pages

Wednesday, February 06, 2019

The Sponge Life

Going through a weird fase in life where I'm beginning to feel like a sponge..a sponge that absorbs everything but is not supposed to react.

But what happens when it's capacity is full ? A sponge does not explode so I suppose it just dries with time and the cycle of absorbing starts all over again..until the cracks appear and it slowly disintegrates.

The only words that come to my mind are Mehdi Hassan's :

सब की सुन कर चुप रहते हैं
दिल की बात नहीं कहते
आते आते जीने के भी 
लाख बहाने आ जाते है....

कैसे कैसे लोग हमारे 
जी को जलाने आ जाते हैं
अपने अपने ग़म के फ़साने
हमें सुनाने आ जाते हैं.....

इन से अलग मैं रह नहीं सकती
इस बेदर्द ज़माने में
मेरी ये मजबूरी मुझको
याद दिलाने आ जाते हैं....

No comments:

Post a Comment